Home > Sports > Cricket > एशेज सीरीज में बिना गिल्लियों के खेला गया मैच.. आखिर क्यों?

एशेज सीरीज में बिना गिल्लियों के खेला गया मैच.. आखिर क्यों?

Ashes Test

Ashes Testक्रिकेट में अगर कोई टेस्ट सीरीज सबसे ज्यादा रोचक है तो वो है एशेज सीरीज(Ashes Test)। एशेज सीरीज(Ashes Test) का इतिहास भी मैच की तरह काफी गज़ब है। ये सीरीज क्रिकेट बेल्स की राख के लिए खेली जाती है। लेकिन एशेज सीरीज के चौथे टेस्ट में तब सभी हैरान रह गए जब क्रिकेट मैच बिना गिल्लियों के ही खेला गया। हर कोई हैरान परेशान था की आखिर ऐसा क्या हो रहा है। चलिए हम आपको बताते है क्या है पूरा मामला…

दरअसल मैनचेस्टर में खेल जा रहे इस मैच के दौरान जब दूसरे सत्र का खेल जारी था, तब मैदान पर घने बादल थे और तेज हवाएं चल रही थीं। इस दौरान हवा इतनी तेज गति से चल रही थी कि स्टंप्स पर बेल्स टिक ही नहीं पा रही थी और वह बार-बार नीचे गिर रही थी। ऐसे में दोनों अंपयार ने बिना गिल्लियों के खेलने का निश्चय किया।

-क्या कहता है क्रिकेट में नियम 8.5?

आपको बता दें जब तेज़ हवा चले तो क्रिकेट मैच बिना बेल्स के भी खेला जा सकता है। क्रिकेट में नियम 8.5 कहता है, ‘अगर जरूरी हो तो अंपायर स्टंप्स से बेल्स हटाने का निर्णय ले सकते हैं। अगर बेल्स हटाने पर अंपायर सहमत होते हैं तो विकेट के दोनों और की बेल्स नहीं होगी। जैसी ही परिस्थितियां स्टंप्स पर बेल्स टिकने के अनुकूल होंगी, अंपायर बेल्स को स्टंप्स पर फिर लगाएंगे।’

इंटरनैशनल क्रिकेट इतिहास में यह दूसरा ही मौका था, जब कोई मैच कुछ देर बिना बेल्स के ही खेला गया हो। बिना बेल्स के मैच जारी रहने की पहली घटना साल 2017 की है, जब अफगानिस्तान और वेस्ट इंडीज के बीच एक मैच खेला जा रहा था। तब भी मैदान पर तेज हवाओं के चलते बेल्स को हटाया गया था।